Aankhen Bheeng Jaatee hain.

0
80

Aankhen_bheeng_jaatee_hain!!

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

tumhen jab yaad karata hoon to aankhen bheeg jaatee hain,

tumhaare geet likhata hoon to aankhen bheeg jaatee hain!!

~~~~~

bahut bechain sa rahata hai dil tanahaiyon mein ab,

jo khuda se baat karata hoon to aankhen bheeg jaatee hain!!

~~~~~

gam-e-phuQraqat mein ab aatee nahin hai neend raaton mein,

kabhee karavat badalata hoon to aankhen bheeg jaatee hain!!

~~~~~

tumhaare khat sanjo rakkhen hain saare aalamaaree mein,

khaton ko jab palatata hoon to aankhen bheeg jaatee hain!!

~~~~~

sunaee detee hain aksar hee cheekhen begunaahon kee,

kabhee khuda cheekh padata hoon to aankhen bheeg jaatee hainn!!

~~~~~

hajaaron log jo har roj jeete aur hain marate,

main unake dard sunata hoon to aankhen bheeg jaatee hain!!

~~~~~

kaee maasoom aankhon mein hai dekha mainnen soonaapan,

jo unake khvaab padhata hoon to aankhen bheeg jaatee hain!!

~~~~~~ — ———-vidya bhooshan — ~~~~~~~~~~~~~~

#ग़ज़ल!!
#आँखें_भींग_जाती_हैं!!
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
तुम्हें जब याद करता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं,
तुम्हारे गीत लिखता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं!!
~~~~~
बहुत बेचैन सा रहता है दिल तनहाइयों में अब,
जो खु़द से बात करता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं!!
~~~~~
ग़म-ए-फु़रक़त में अब आती नहीं है नींद रातों में,
कभी करवट बदलता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं!!
~~~~~

तुम्हारे ख़त सँजो रक्खें हैं सारे आलमारी में,
ख़तों को जब पलटता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं!!
~~~~~
सुनाई देती हैं अक्सर ही चीखें बेगुनाहों की,
कभी खु़द चीख पड़ता हूँ तो आँखें भीग जाती हैंं!!
~~~~~
हजारों लोग जो हर रोज जीते और हैं मरते,
मैं उनके दर्द सुनता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं!!
~~~~~
कई मासूम आँखों में है देखा मैंनें सूनापन,
जो उनके ख़्वाब पढ़ता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं!!
~~~~~~
— विद्या भूषण—

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here