Emaan bik raha kisee saamaan kee tarah.

0
68

Gazal

————————————-

Emaan bik raha kisee saamaan kee tarah,

zinda hai aadamee magar bejaan kee tarah!!

~~~ milate hain haath roz magar dil nahin mile,

milata nahin haiaadamee insaan kee tarah!!

~~~

keemat nahin ana kee aadamee ke rah gayee,

poojee gaee daulat yahaan bhagavaan kee tarah!!

~~~

hai jaam har sadak pe,aad haalaat kuchh aise huehain aaj desh ke,

har gaanv dikharaha kisee veeraan kee tarah!!

~~~

mee kee bheed hai, ghar deekh rahe bhootaha makaan kee tarah!!

~~~

gulashan ujad gaye,nahin dikhatee hain titaliyaan,

har ik chaman dara raha sunasaan kee tarah!!

~~~

nafarat hai,jaahilee hai,vo kurbat nahin rahee,

ik doosare ko dekhate anjaan kee tarah!!

【”bhooshan”】

गज़ल
————————————-
ईमान बिक रहा किसी सामान की तरह,
ज़िंदा है आदमी मगर बेजान की तरह!!
~~~
मिलते हैं हाथ रोज़ मगर दिल नहीं मिले,
मिलता नहीं हैआदमी इंसान की तरह!!
~~~
कीमत नहीं अना की आदमी के रह गयी,
पूजी गई दौलत यहाँ भगवान की तरह!!
~~~
है जाम हर सड़क पे,आद

हालात कुछ ऐसे हुएहैं आज देश के ,
हर गांव दिखरहा किसी वीरान की तरह!!

~~~मी की भीड़ है,
घर दीख रहे भूतहा मकान की तरह!!
~~~
गुलशन उजड़ गये,नहीं दिखती हैं तितलियाँ,
हर इक चमन डरा रहा सुनसान की तरह!!
~~~
नफ़रत है,जाहिली है,वो कुर्बत नहीं रही,
इक दूसरे को देखते अंजान की तरह!!

【”भूषण”】

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here