Bade Ajeeb ho Chale Hain Ajakal Mausam.

0
144

!!#Mausam !!

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

bade ajeeb ho chale hain aajakal mausam,

jab bhee chaahen badal lete hain ye apana mijaza,

pal mein tola to pal mein maasha hain ye ho jaate;

kabhee jaade kee sard raaton mein paseena chhoote,

garmiyon mein bhee kabhee dhoop badee pyaaree lage.

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

aur ye mausamebarasaat ka mat poochhiye haal,

ab to saavan bhee beet jaata hai pyaasa pyaasa!!

baadalon ka bhee bura haal hua bhaadon mein,

tadap ke paanee bina ve bhee sookh jaate hain.

aajakal jaadon mein chalate hain thapede loo ke,

bina barasaat ke sailaab chale aate hain.

garmiyon mein bhee kaanp jaata hai thar-thar ye badan.

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

aisa lagata hai ki insaanee phitaraten saaree,

roj har pal badal lene kee tabeeyat apanee,

mausamonn ne bhee seekh lee hai badee shiddat se.

ya sikha dee hai giragiton ne unhen apanee ada,

har ek roj rang apana badal lene kee,

bade ajeeb ho chale hain aaj kal mausam..

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

 ————-vidya bhooshan—————–

 

 

!!#मौसम !!

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

बडे़ अजीब हो चले हैं आजकल मौसम,
जब भी चाहें बदल लेते हैं ये अपना मिजा़ज़,
पल में तोला तो पल में माशा हैं ये हो जाते;
कभी जाडे़ की सर्द रातों में पसीना छूटे,
गर्मियों में भी कभी धूप बडी़ प्यारी लगे।

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
और ये मौसमेबरसात का मत पूछिये हाल,
अब तो सावन भी बीत जाता है प्यासा प्यासा!!
बादलों का भी बुरा हाल हुआ भादों में,
तड़प के पानी बिना वे भी सूख जाते हैं
आजकल जाडो़ं में चलते हैं थपेडे़ लू के,
बिना बरसात के सैलाब चले आते हैं।
गर्मियों में भी काँप जाता है थर-थर ये बदन ।

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
ऐसा लगता है कि इंसानी फि़तरतें सारी,
रोज हर पल बदल लेने की तबीयत अपनी,
मौसमोंं ने भी सीख ली है बडी़ शिद्दत से।
या सिखा दी है गिरगिटों ने उन्हें अपनी अदा,
हर एक रोज रंग अपना बदल लेने की,
बडे़अजीब हो चले हैं आज कल मौसम।।
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
———– विद्या भूषण————–

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here