Pehli Mohabbat Ka Anzaam.

0
170
mohabbat-ka-anzaam-very-sad
mohabbat-ka-anzaam-very-sad

हर तन्हा रात में एक नाम याद आता है,
कभी सुबह कभी शाम याद आता है,
जब सोचते हैं कर लें दोबारा मोहब्बत,
फिर पहली मोहब्बत का अंजाम याद आता है।

Har Tanha Raat Mein Ek Naam Yaad Aata Hai,
Kabhi Subhah To Kabhi Shaam Yaad Aata Hai,
Jab Sochte Hain Kar Lein Dobara Mohabbat,
Fir Pehli Mohabbat Ka Anzaam Yaad Aata Hai.

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

देख लेते हो मोहब्बत से यही काफी है,
दिल धड़कता है सहूलियत से यही काफी है,
हाल दुनिया के सताए हुए कुछ लोगों का,
जो पूछ लेते हो शरारत से यही काफी है।

Dekh Lete Ho Mohabbat Se Yehi Kaafi Hai,
Dil DhadakTa Hai Sahuliyat Se Yehi Kaafi Hai,
Haal Duniya Ke Sataaye Huye Kuchh Logon Ka,
Jo Poochh Lete Ho Shararat Se Yehi Kaafi Hai.

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

इस तरह मिली वो मुझे सालों के बाद,
जैसे कोई हक़ीक़त मिली हो ख्यालों के बाद,
मैं पूछता ही रहा उससे खताएं अपनी,
वो बहुत रोई थी मेरे सवालों के बाद।

Iss Tarah Mili Wo Mujhe Saalo Ke Baad,
Jaise Koi Haqikat Mili Ho Khayalon Ke Baad,
Main Poochhta Hi Raha Uss Se Khatayein Apni,
Wo Bahut Royi Thi Mere Sawaalon Ke Baad.

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

———————— आनंद ———————

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here